Ad

ads ads

Breaking News

पारिवारिक कलह के चलते माॅ ने दुधमुही बच्ची के साथ लगाई आग

बच्ची की मौत, माॅ गंभीर
उन्नाव।
पारिवारिक विवादो के चलते एक युवती ने आग लगा कर करीब दो वर्षीय बच्ची के साथ आग लगा कर
जान देने की कोशिश की। इसी बीच परिजनों को भनक लग गई। जिस पर उन्होने दरवाजा तोड़ कर उसे बचाने की कोशिश की। इसी बीच आग से ज्यादा झुलस जाने के चलते बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं युवती कानपुर के एक निजी अस्पताल में जीवन और मौत के बीच सघंर्ष कर रही है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना अजगैन के ग्राम रायगढ़ी मजरे जनसार
निवासी संध्या त्रिवेदी पत्नी बृजेश त्रिवेदी ने पारिवारिक विवादो के चलते उसकी सास कमलेशा ने संध्या के ज्येष्ठ राजेश, देवर राकेश व मुकेश, को यथोचित उनका हिस्सा दे दिया था। तथा वह अलग रह रही थी। बृजेश शहर के इंडार्गो मे कार्यरत होने के चलते उसे कंपनी ने विदेश भेज दिया। जिस पर संध्या को गांव में छोड़ विदेश चला गया। इसी बीच शुक्रवार की सुबह हिस्सेदारी को लेकर विवादो के चलते करीब दो वर्षीय बच्ची वैष्णवी के साथ अंदर से दरवाजा बंद कर केरोसिन से आग लगा कर जान देने की कोशिश की। इसी दौरान कमरे से संध्या व बच्ची के तेज शोर सुन परिजनों ने दरवाजे पर धक्का लगाया। जिस पर दरवाजा बंद होने पर संध्या के ज्येष्ठ राजेश ने दरवाजा तोड़ कर अंदर घुसे। संध्या व वैष्णवी को आग से झुलसता देख उनके होश उड़ गए। उन्होने आनन फानन उसे एबुलेंस के जरिए जिला अस्पताल ले गए। जहाॅ उसकी हालत गंभीर देख चिकित्सको ने उसे भर्ती कर उसका इलाज शुरू कर दिया। वहीं जब उसे लाभ न होता देख चिकित्सकों ने उसे कानपुर रेफर कर दिया। जहाॅ निजी अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। जहाॅ उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।
अस्पताल बना अखाड़ा, दोनों तरफ के परिजनों ने लगाए आरोप प्रत्यारोप
अस्पताल उस समय अखाड़ा बन गया, जब अस्पताल मंे मौजूद दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाना शुरू कर दिया। जिससे अस्पताल परिसर अखाड़ा बन गया। पीड़िता के पक्षों ने ससुराल जनों पर मारपीट के आरोप लगा उन्हे घेरने का प्रयास करना शुरू कर दिया। वहीं ससुराल जनों ने स्पष्ट करते हुए बताया कि उन्होने जब संध्या कें साथ सभी को हिस्सा दे दिया है, तब किस बात का झगड़ा। वहीं मायके के पक्ष कंे लोगों ने बताया कि संध्या पर उसके देवर सास अक्सर मारपीट आदि आए दिन किया करते थे। जिसके चलते संध्या काफी परेशान रहा करती थी। इसी के चलते उसने आग लगा कर जान देने की कोशिश की।