Ad

ads ads

Breaking News

अवैध निर्माण में संलिप्त दबंग ने बुलाई भीड़ कि......

उन्नाव। नगर पालिका की खाली पड़ी धवन रोड बैंक मैदान की भूमि पर चल रहे निर्माण को लेकर मंगलवार को शुरू हुए विवाद का बुधवार को पटाक्षेप हो गया।
अवैध निर्माण गिराने पहुंचे पालिका दस्ते को विरोध का सामना करना पड़ा। निर्माण करा रहे मो. अहमद डियर के समर्थन में जमा भीड़ ने नगर पालिका की कार्रवाई पर विरोध जाहिर किया तो तनाव बढ़ गया यह देख अधिशाषी अधिकारी को पुलिस बुलानी पड़ी। सूचना डीएम तक पहुंची। डीएम के आदेश पर तहसीलदार दशरथ, नायब तहसीलदार सुदीप तिवारी लेखपाल सुनील सिंह,
केके शुक्ल आदि को लेकर मौके पर पहुंचे। पुलिस बल की मौजूदगी में लेखपालों ने तीन घंटे तक नापजोख के बाद विवादित भूमि को नगर पालिका की बताई। इसके बाद भारी पुलिस बल की मौजूदगी में नगर पालिका ने अवैध कब्जा कर बनाए गए पिलरों को ढहा दिया। इस बीच निर्माण करा रहे कब्जेदार व उनके साथियों ने रजिस्ट्री व नक्शा आदि दिखा अपनी भूमि पर निर्माण कराने की दुहाई दी लेकिन प्रशासन ने एक नहीं सुनी और अवैध कब्जा हटवा दिया।

बताते चलें  नगर पालिका की धवन रोड बैंक मैदान पर भूमि खाली पड़ी है। इस जमीन से मिले भाग पर नगर पालिका से कसाई चौराहा की ओर जाने वाले मार्ग किनारे की भूमि पर ऊंटसार निवासिनी सलमा के पुत्र मो. अहमद निर्माण करा रहे थे। इसे लेकर मंगलवार को नगर पालिका ने भूमि अपनी बता निर्माण कार्य रुकवाने को कहा था। लेकिन उन्होंने बुधवार को पुन: निर्माण शुरु करा दिया था। अधिशाषी अधिकारी सुनील मिश्र ने मौके पर पहुंच निर्माण रोकने को कहा लेकिन वह कागज दिखाकर निर्माण रोकने को तैयार नहीं हुए।
कैसे मिली एनओसी
निर्माण करा रहे मोहम्मद अहमद ने बताया कि भूमि संख्या 5200 मिनजुमला उनकी मां सलमा के नाम है। जिसका दाखिल खारिज भी है। उन्होंने बताया भूमि का नक्शा पास कराने के लिए तहसील से 29 जनवरी 96 और 27 जनवरी 16 को नगर पालिका ने एनओसी जारी की। इसके बाद 19 जुलाई 17 को यूडीए से नक्शा पास है। सवाल यह उठता है कि चौहद्दी भी लिखा है तब एनओसी देते समय नगर पालिका, तहसील और यूडीए किसी ने भी यह देखना क्यों गंवारा नहीं किया कि जिस भूमि की वह एनओसी दे रहे हैं वह है कहां। भूमि मालिक सलमा के पुत्र मोहम्मद अहमद का कहना था कि अगर भूमि उसकी नहीं थी तो एनओसी और नक्शा पास करते वक्त आपत्ति क्यों नहीं लगी। इस सवाल पर तहसीलदार दशरथ का कहना था कि भूमि संख्या 5200 पर एनओसी जारी की गई है। नगर पालिका का नंबर अलग है पैमाइश में जिस भूमि पर निर्माण हो रहा था वह नगर पालिका की है। जब उनसे जानकारी चाही गई जिस नंबर की एनओसी दी गई है वह भूमि कहां है तो उन्होंने कहा कि पैमाइश का आदेश कराएं नाप करा दी जाएगी।