दुनिया

ऐसा देश जहॉ आम चुनाव ऐसे मुद्दों पर लड़ा जा रहा है, जिन्हे हम बीस साल बाद भी नहीं सोंच सकते

डेस्क। हम कभी सोंच भी नहीं सकते कि आम चुनाव में कभी ऐसे मुद्दे भी हो सकते हैं जो बुनियादी समस्याओं से दूर हो। नहीं बिलकुल ही नहीं। हमारे देश में कोई भी चुनाव चाहे वार्ड मेंम्बर का हो या फिर लोकसभा का, सभी चुनाव ही नाली सड़क खंड़जे से लेकर पेयजल बिजली चिकित्सा सुरक्षा व शिक्षा आदि जैसी बुनियादी समस्याओं के बल पर ही लड़े जाते है। लेकिन दुनिया में ऐसा नही है। दुनिया में अधिंकाश देशों में कई ऐसे मुद्दों पर भी चुनाव होता है, जो कि हमारें देश में आगामी बीस साल बाद भी उनके बल पर कोई चुनाव लड़ेगा, स्वप्न में भी नहीं सोच सकते।
बात हो रही है ऑस्ट्रेलिया की। जहॉ 2018 में वित्तमंत्री स्कॉट मॉरिसन को प्रधानमंत्री के तौर पर चुना गया था। उन्होने यह पद मैलकम टर्नबुल के हट जाने पर गृहण किया था। बताते चले कि स्कॉट मॉरिसन ने देश में 18 मई को आम चुनाव कराए जाने की घोषणा की है। उन्होने मॉरिसन के लिए आम चुनाव में जिन मुद्दों पर बल दिया है उनमें जलवायु और अर्थव्यवस्था मुख्य मुद्दा होंगे। इन्होंने मैलकम टर्नबुल का स्थान तब लिया था, जब वे पार्टी के भीतर हुए मतदान में मॉरिसन 40 के मुकाबले 45 वोटों से जीते। मॉरिसन ने घोषणा करते हुए कहा- हम विश्व के सबसे अच्छे देश में रहते हैं। घोषणा के साथ प्रचार आधिकारिक रूप से शुरू हो गया। यह चुनाव ही मॉरिसन के तीसरी बार सत्ता में आने और प्रधानमंत्री बनने की राह साफ करेंगे। पीएम बनने के बाद मॉरिसन ने ऑस्ट्रेलिया ने पश्चिमी यरुशलम को इज़राइल की राजधानी के तौर पर मान्यता देकर चर्चा का विषय भी बन गए। मॉरिसन ने सिडनी में एक भाषण में कह कर सभी को चौका दिया, जिसमें उन्होने कहा कि नेसेट और कई सरकारी संस्थान वहां स्थित होने के कारण ऑस्ट्रेलिया पश्चिमी यरुशलम को इज़राइल की राजधानी के तौर पर मान्यता देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *